ReligionTOP STORIES

ईद-उल-फितर की नमाज से पहले क्या करें

नौदाश अख्तर

रमजान के एक महीने में दुनियाभर के मुसलमानों की दिनचर्या आम दिनों से बिल्किुल भिन्न होती है. मगर ईद-उल-फितर का चांद देखते ही लोग भूल जाते हैं कि अगले दिन इसकी नमाज अदा करने से पहले उन्हें कुछ अहम कार्य भी अंजाम देने हैं.

यह लेख उन्हीं बातों को याद दिलाने की मंशा से लिखी गई है.एक महीने के चिंतन, इबादत और आध्यात्मिक नवीनीकरण के बाद ईद का उत्सव हम पर हावी हो जाता है. यहां तक कि ईद-उल-फितर से पहले की रात भी हमारी बेहद व्यस्त रहती है. सुबह की तैयारी में रातभर बर्तनों की आवाज से रसोई आती रहती है. अच्छे-अच्छे व्यंजन तैयार किए जाते हैं.

घरों को सजाया जाता है. बच्चे अगले दिन के लिए जल्दी-जल्दी अपने नए कपड़े तैयार करते हैं और मां-बाप यह सुनिश्चित करने के लिए भाग-दौड़ करते हैं कि कुछ भी बिना तैयारी के न रह जाए.ईद-उल-फितर एक ऐसा उत्सव है जिसका युवा और बूढ़े सभी को समान रूप से इंतजार रहता है.हालाँकि, सभी उत्साह के बीच, मुसलमानों के लिए इस अवसर के आध्यात्मिक महत्व को याद रखना भी उतना ही महत्वपूर्ण है.

ईद तब होती है जब हम एक महीने की बढ़ी हुई इबादत के बाद खुशी मनाते हैं, लेकिन यह वह स्रोत भी है जिससे हम रमजान में प्राप्त किसी भी आशीर्वाद को बनाए रखने की उम्मीद करते हैं. ध्यान में रखते हुए कि ईद-उल-फितर के जश्न के लिए याद रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण बातें यहां दी गई हैं. इस सिलसिले में सबसे महत्वपूर्ण बात तो यही है कि यदि आपने फितरा नहीं दिया है तो ईद-उल-फितर की नमाज से पहले आपको इसे अदा करना जरूरी है.

ईद-उल-फितर की नमाज से पहले याद रखने वाली बातें

मस्जिद में सामूहिक रूप से फज्र की नमाज पढ़ने का प्रयास करें

ईद की नमाज के लिए जाने से पहले कुछ मीठा -खाएं.
यदि आप खजूर खाते हैं, तो विषम संख्या में खजूर खाने का प्रयास करें.

मस्जिद में जाने से पहले गुस्ल करें

अपने दांत साफ करने के लिए मिसवाक का प्रयोग करें

-अच्छी खुशबू वाला परफ्यूम लगाएं (पुरुषों के लिए)

-इस अवसर के लिए अपने सबसे अच्छे कपड़े पहनें

  • दिखाएं कि आप खुश हैं और दूसरों का स्वागत खुशी से करें

-यदि संभव हो तो नमाज शुरू होने तक तकबीर कहते हुए पैदल ही मस्जिद तक जाएं

  • सुनिश्चित करें कि आपने ईद की नमाज शुरू होने से पहले अपना जकात-उल-फितर अदा कर दें
  • यह अनिवार्य है और चूक जाने पर इसकी भरपाई नहीं की जा सकती.
  • आपने इस वर्ष के लिए अपना जकात-उल-फित्र नहीं चुकाया है, तो आप पास के मदरसों को काॅल कर सकते हैं.

ईद – उल – फितर क्या है ?

ईद-उल-फितर मुसलमानों द्वारा मनाई जाने वाली दो प्रमुख छुट्टियों में से एक है और रमजान के पवित्र महीने के अंत की याद दिलाती है, जिसमें मुसलमान रोज सुबह होने से पहले से सूर्यास्त तक रोजा रखते हैं. इसे सुबह ईद की नमाज के साथ मनाया जाता है, जिसके बाद भोजन और दोस्तों और परिवार के साथ बातचीत होती है. जकात अल-फितर नामक एक अनिवार्य दान ईद की नमाज से पहले एकत्र किया जाता है और गरीबों और जरूरतमंदों को वितरित किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी उत्सव में भाग ले सकें. ईद-उल-फितर छुट्टी का अरबी नाम है. हालांकि इसे अन्य भाषाओं में कई अन्य नामों से भी जाना जाता है.

ALSO READ

क्या नॉर्वे में ईद की नमाज के लिए रजिस्ट्रेशन जरूरी है ?

दुनिया भर में ईद: एक अनोखी झलक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *